Car Safety test in India

Car Safety test in India (कार सेफ्टी रेटिंग क्रैश टेस्ट) अब भारतमेंही होगी कार सेफ्टी रेटिंग क्रैश टेस्ट | कल २२ अगस्त को केंद्रीय सड़क और राजमार्ग मंत्री मा. नितिन गडकरीजी ने दिल्ली में हुए एक कार्यक्रम में ‘Bharat NCAP’ (Bharat New Car Assessment Program) लॉन्च किया | इस कार्यक्रम के तहत ३.५ टन तक की वजनी गाड़ियों की सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण किया जायेगा | हर गाड़ी की सुरक्षा को परखने के लिए उसकी सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण करना आवश्यक होता है, इससे कार रस्ते पर चलाने के लिए कितनी सुरक्षित है इसका पता चलता है | इसलिए यह परिक्षण सुरक्षा के हिसाब से बहुत महत्वपूर्ण होता है | देश के अंदर अपनेही कार की सेफ्टी रेटिंग क्रैश टेस्ट करने में अमेरिका, चीन, जपान और दक्षिण कोरिया के बाद भारत पांचवा देश बन जायेगा |

पहले हम यह परिक्षण विदेश में जाकर करते थे | इसमें समय और पैसे ज्यादा लगते थे, रेटिंग मिलने में भी देरी होती थी | मगर अब यह सब देश के अंदर होने की वजह से यह कठनाई नहीं रहेगी | १ अक्तूबर २०२३ से इस कार्यक्रम की शुरुवात हो जाएगी | Bharat New Car Assessment Program (Car Safety test in India) शुरू होने की वजह से देश में तैयार कार का सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण जो पहले देश के बाहर यूके में रजिस्टर कंपनी ‘ग्लोबल न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम’ के द्वारा किया जाता था, वो अब देश में ही हो जाएगा | और भारत का ‘Bharat NCAP’ (Bharat New Car Assessment Program) यह कार्यक्रम वैश्विक मानकों से जुड़ा हुआ है | इसलिए यह पे दियी हुई रेटिंग जागतिक स्तर के अनुरूप होगी |

भारत में सर्वप्रथम टाटा की ‘TATA Nexon’ इस कार को फाइव स्टार रेटिंग प्राप्त करने का गौरव प्राप्त हुआ था | अब इसके साथ साथ कई और गाडिया फाइव स्टार रेटिंग प्राप्त कर चुकी है |

सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण का महत्त्व (Car Safety test in India)

देश में स्थित बहुत सारी कंपनियां कार को बाजार में लाती है, इसके साथ कार की सुरक्षा भी देखी जाती है | क्यों की गाड़ी की गति, चलने की क्षमता, मायलेज, मजबूती और सुरक्षा प्रणाली से ही गाड़ी की क्षमता को परखा जाता है | गाड़ियों में सुरक्षा प्रणाली का होना जरुरी होता है | इस सुरक्षा प्रणाली देखकर ही ग्राहक कार खरीदने के लिए आते है |  इस सुरक्षा प्रणालीके अनुसार गाडी की सुरक्षा का परिक्षण किया जाता है, और उनको एक निश्चित रेटिंग दी जाती है | इस दी गयी रेटिंगसे उस कार की सुरक्षा को नापा जाता है | इसलिए इस परिक्षण का बहुत महत्व होता है |

सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण (Car Safety test in India) भारत में करने की आवश्यकता क्यों ?

भारत अब दुनिया का तीसरा ऑटोमोबाइल मार्केट बन गया है | दुनिया अब तेजी से आगे बढ़ रही है, और इस दुनिया के साथ चलने के लिए हमें हर क्षेत्र में तरक्की करना जरुरी है | देश में तो देसी गाडियों का ही बोलबाला रहा है, मगर अब तो विदेशो में भी यह गाडियों की माँग बढ़ रही है | साथ साथ गाड़िया चलाने के लिए सुरक्षित होनी चाहिए यह इच्छा हर ग्राहक की होती है | अब देश में ही सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण ‘Bharat NCAP’ (Bharat New Car Assessment Program)  के रूप में हो जाने से हमारा समय और पैसा दोनों बचेंगे | और देश में ही सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण रेटिंग (Car Safety test in India) मिलने से सुरक्षा मानकों के हिसाब से क्या क्या बदलाव करना है, यह भी जल्दी पता चल जायेगा | जो पहले विदेश में परीक्षण करने से काफी देर से पता चलता था | इससे देश में तैयार गाड़िया विदेशी गाड़ियों से मुकाबला करने के लिए और भी तैयार हो जायेंगी | इससे हमारी निर्यात क्षमता भी बढ़ेगी | कुल मिलकर ‘Bharat NCAP’ (Bharat New Car Assessment Program) से देश की तरक्की में बढ़ोतरी होगी |

सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण की रेटिंग किस तरह निश्चित की जाएगी |

  • एक कार (डमी कार) को अलग –  अलग गति से एक जगह ठोक दीया जाएगा | अलग अलग कोनों से (साइड) इसे ठोक दिया जायेगा और इससे होनेवाले नुकसान और सुरक्षा को परखा जाता है |
  • कार के अंदर की सुरक्षा प्रणाली दुर्घटना के समय कैसे काम करती है, या काम करती है या नहीं यह जानने के लिए जानबुझकर कार को आगे और पीछे से दुर्घटनाग्रस्त किया जाता है | और इससे गाड़ी की सुरक्षा का परिक्षण किया जाता है | क्यों की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर सबसे पहले यही कार के अंदर की सुरक्षा प्रणाली काम करती है |
  • सुरक्षा का परिक्षण करने के लिए कार के अंदर नकली आदमी और बच्चे को (डमी आदमी और डमी बच्चा) बिठाकर कार को दुर्घटनाग्रस्त किया जाता है | और इससे आदमी और बच्चे को क्या क्या नुकसान हुआ है, और चोट की गंभीरता कितनी है यह देखकर सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण की रेटिंग दी जाती है |

सब मानकों को एकसाथ देखकर इसको रेटिंग दी जाती है | इसके अनुसार ० से ५ तक रेटिंग दी जाती है | ‘५’ रेटिंग का मतलब आपकी गाड़ी चलाने के लिए सुरक्षित है, और ‘०’ रेटिंग का मलतब गाड़ी चलाने के लिए सुरक्षित नहीं है ऐसा कहते है | इस हिसाब से सुरक्षा दुर्घटना परीक्षण पांच स्तरों पर किया जाता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *